RAM क्या है? What is RAM in Hindi – RAM की पूरी जानकारी

मोबाइल और कंप्यूटर तो सब लोग इस्तेमाल करते हैं लेकिन क्या आपको पता है कि RAM क्या है (What is RAM in Hindi) आपको RAM के बारे में थोड़ी बहुत जानकारी तो जरूर होगी लेकिन आज हम इसके बारे में विस्तार से जानेंगे.

दोस्तों जब भी हम कोई नया फ़ोन, लैपटॉप या फिर कंप्यूटर खरीदने की सोचते हैं तो हमारे मन मे एक सवाल तो जरूर ही आता है कि उसमें कितने GB के RAM होना चाहिए, या फिर कितना GB RAM हमारे लोए जरूरी होगा.

बात करें अगर आज के समय की तो आज के समय में स्मार्ट फ़ोन्स की कीमत तो काफी कम हो चुकी है हमें काम दाम में ही अच्छे अच्छे फ़ोन मिल जाते हैं, लेकिन फिर भी हम यही चाहते हैं कि कम से कम दाम में हमें ज्यादा से ज्यादा और बेहतर RAM मिल सके.

हर कोई आजकल अपने फ़ोन में बहुत सारे एप्लिकेशन और Pubg जैसे हैवी गेम्स चलते हैं इसके साथ ही वो अपने फ़ोन के Primary Storage में भी बहुत सारी फाइल्स जैसे फोटोज, वीडियोज और भी कई फाइल्स रखते हैं.

ऐसे समय के साथ साथ उनका Internal Storage भरता जाता है और धीरे धीरे फ़ोन का Performance भी धीमा होता जाता है जिससे हमारा फ़ोन बार बार हैंग भी होने लगता है, इसके साथ और भी कई सारे दिक्कतों का सामना करना पड़ता है.

ऐसे में हमें अपने फ़ोन में ज्यादा RAM की जरूरत होती है, जितना ज्यादा आपके फोन में RAM होगा आपका फोन उतने ही अच्छे से काम करेगा, नही तो कई बार ऐसा होता है कि कम RAM होने की वजह से जब हम कोई एप्लिकेशन ओपन करते हैं तो वह बहुत देरी से ओपन होता है.

लेकिन वहीं दूसरी तरह अगर आपके फोन या कंप्यूटर में RAM ज्यादा है तो कोई भी एप्पलीकेशन ओपन करने और वह बहुत ही तेजी से ओपन होगा और इससे आपका Experience भी काफी बेहतर होगा.

तो आज हम इन्ही सब के बारे में विस्तार से जानेंगे कि Computer Memory क्या है, Computer Memory कितने प्रकार का होता है और उसमें RAM क्या  है, RAM कैसे काम करता है, RAM कितने प्रकार का होता है और साथ ही साथ हम RAM की विशेषताओं के बारे में भी जानेंगे.

    RAM क्या है (What is RAM in Hindi

RAM क्या है (What is RAM in Hindi) ये जानने से पहले हमें कंप्यूटर मेमोरी के बारे में में भी जानकारी होना बहुत जरूरी है, तो सबसे पहले इसी से शुरू करते हैं, तो चलिए पहले यही जानते हैं कि – Computer Memory क्या है – What is Computer Memory in Hindi

ये पोस्ट भी पढ़ें-

ROM Kya Hai? What is ROM in Hindi

Computer Memory क्या है ( What is Computer Memory in Hindi )

दोस्तों जैसा कि हम सब जानते हैं कि Memory का मतलब होता है स्मृति यानी याददाश्त, जिस प्रकार से हमारे अपने सामान्य जीवन में किये गए कार्यों की जानकारी हमारे दिमाग मे स्टोर होती है और जब चाहे हम किसी बात हो याद कर लेते हैं,

जैसे कि हमने कौन सा काम कब किया और कहाँ किया, या हमने कोई सामान को कहाँ रखा, या कल मैंने क्या क्या खाया इत्यादि.

ठीक इसी प्रकार से कंप्यूटर की भी मेमोरी होती है जिसमें वो सभी प्रकार की फाइल्स को अलग अलग Formats में स्टोर करके रखा जाता है,

जैसे कि Images, Videos, Audios इत्यादि सभी प्रकार की फाइल्स कंप्यूटर के अलग अलग जगहों पर स्टोर किया जाता है.

Computer Memory के प्रकार ( Types of Computer Memory )

सामान्यतः Computer  में 3 प्रकार की Memory होती हैं और तीनों के अलग अलग काम होते हैं.

1. Primary Memory

2. Secondary Memory

3. Cache Memory

यही तीन प्रकार की Computer Memory होती हैं, क्यूँकि आज हमें विशेष रूप से RAM क्या है ( What is RAM in Hindi ) के बारे में जानना है इसीलिए अब आगे हम Primary Memory के बारे में जानेंगे.

कंप्यूटर में Primary Memory क्या है ( What is Primary Memory in Computer )

कंप्यूटर में Primary Memory को मुख्य मेमोरी ( Main Memory ) या अस्थायी मेमोरी ( Volatile Memory ) भी कहा जाता है और यह CPU का एक भाग होता है, और वहीं से यह Data और निर्देश प्राप्त करता है, और फिर उसे सेव करता है.

Primary Memory अस्थायी होती है और यह वर्तमान में किये जा रहे प्रोसेस के Data और निर्देश को संग्रहित करता है, क्यूँकि यह अस्थायी मेमोरी होती है इसीलिए काम के खत्म होने के बाद इसका Data अपने आप डिलीट हो जाता है, और फिर अगले काम की प्रक्रिया शुरू हो जाती है.

उदाहरण के लिए!

यदि आप कंप्यूटर में कोई काम कर रहे हैं तो Primary Memory सक्रिय रहती है, लेकिन जब और काम खत्म हो जाएगा या फिर अगर सिस्टम का पावर बंद हो जाये तो इसका सारा डाटा डिलीट हो जायेगे,

प्राथमिक मेमोरी के प्रकार ( Types of Primary Memory )

प्राथमिक मेमोरी यानी कि Primary Memory मुख्यतः दो प्रकार की होती हैं.

1.  RAM

2.  ROM

RAM का Full Form क्या होता है – Full Form of RAM

Random Access Memory (RAM)

ROM का Full Form क्या होता है – Full Form of ROM

Read Only Memory

हालाँकि आज हम सिर्फ RAM क्या है के बारे में जानेंगे और ROM को हम अगले पोस्ट में जानेंगे.

तो चलिए अब हम जानते हैं कि RAM क्या है और कैसे काम करता है – What is RAM in Hindi

RAM क्या है ( What is RAM in Hindi )

सामान्य रूप से RAM (Random Access Memory) कंप्यूटर में मेमोरी का ही एक रूप है, यह कंप्यूटर में इस्तेमाल होने वाली एक प्रकार की अस्थिर मेमोरी है जिसका उपयोग कंप्यूटर में चल रहे Data को  करने के लिए किया जाता है.

RAM कंप्यूटर में इस्तेमाल होने वाले Data Storage का ही एक रूप है जो कि कंप्यूटर के Motherboard पर लगाया जाता है और यह कंप्यूटर का एक बहुत ही मुख्य भाग होता है.

जैसा कि मैंने पहले बताया कि Random Access Memory यानि कि RAM का उपयोग कंप्यूटर में अस्थिर मेमोरी यानी Temporary Memory होती  और आपके कंप्यूटर या मोबाइल में किसी भी प्रोग्राम के चालू या बंद होने के साथ ही यह चालू और बन्द होतो है.

उदाहरण के लिए!

मान लीजिए अपने फ़ोन में किसी एप्पलीकेशन को ओपन किया और थोड़ी देर के इस्तेमाल के बाद आपने उस एप्पलीकेशन को बैकग्राउंड से हटा दिया ,

तो इस प्रक्रिया में जैसे आप उस एप्पलीकेशन को ओपन करते हैं तो तुरंत ही RAM सक्रिय हो जाता है और काम करने लगता है, लेकिन जब आप उस एप्पलीकेशन को बैकग्राउंड से हटा देते हैं तो उस एप्पलीकेशन के लिए RAM भी काम करना बंद कर देता है,

मतलब अब आप इस बात को समझ गए होंगे कि RAM (Random Access Memory) एक Temporary Memory होता है हमेशा अस्थिर रूप से काम करता है जब आपको जरूरत होती है तो यह सक्रिय होता है और जब कोई प्रोग्राम नही चल रहा होता है तो यह बन्द हो जाता है.

 

RAM की विशेषताएँ  ( Characteristics of RAM in Hindi )

RAM क्या है ये तो आपने जान लिया लेकिन इसकी क्या क्या खासियत होती चलिए अब एक एक करके वो भी जान लेते हैं.

●   RAM ( Random Access Memory ) एक प्रकार का अस्थायी मेमोरी ( Volatile Memory ) होता है.

●   यह कंप्यूटर का मुख्य मेमोरी होता है.

●   यह बाकी स्टोरेज ड्राइवर की तुलना में कम पावर खर्च करता है.

●   एक अच्छा RAM बैटरी लाइफ को भी बेहतर बनाता है.

●   अन्य मेमोरी की तुलना में RAM ज्यादा महँगा होता है.

●   यह मेमोरी बाकी सभी मेमोरी से बहुत तेज होता है, किसी भी प्रोसेस को बहुत तेजी से पूरा करता है.

●   कंप्यूटर या मोबाइल के सभी एप्लिकेशन और निर्देश RAM में ही चलते हैं.

RAM कितने प्रकार का होता है ( Types of RAM in Hindi )

अगर हम बात करें RAM के प्रकार की तो यह मुख्यतः 2 प्रकार का होता है –

1.  Static RAM ( SRAM )

2.  Dynamic RAM ( DRAM )

चलिए अब इन दोनों के बारे में भी विस्तार से जान लेते हैं.

1.  Static RAM ( SRAM ) क्या है ( What is Static RAM in Hindi )

Static RAM या SRAM कंप्यूटर की एक ऐसी मेमोरी होती है जिसको चलने के लिए इसको निरन्तर रूप से पावर (Power) की आवश्यकता पड़ती है, और यदि पावर को हटा दिया जाए तो इसके अंदर स्टोर किया हुआ सारा का सारा डाटा डिलीट हो जाता है.

Static RAM में जो भी डाटा स्टोर होता है उसको याद रखने के लिए हमें रिफ्रेश (Refresh) करने की कोई जरूरत नही होती है, Static RAM या SRAM एक अस्थायी मेमोरी (Volatile Memory) होती है.

Static RAM या SRAM की विशेषताएँ ( Characteristics of Static RAM or SRAM )

. Static RAM को SRAM के नाम से भी जाना जाता है.

●   यह काफी टिकाऊ (Durable) होता है.

●   अच्छी और तेज गति से कार्य करता है.

●   इसका इस्तेमाल कैश मेमोरी (Cache Memory) के लिए भी किया जाता है.

●   इसको रिफ्रेश (Refresh) करने की आवश्यकता नही होती.

●   इसे डिजिटल से एनालॉग कनवर्टर के रूप में भी उपयोग किया जाता है.

Static RAM या SRAM के फायदे ( Advantage of Static RAM or SRAM )

●   यह बहुत तेज गति से कार्य करता है.

●   यह आकर में छोटा होता है.

●   इसमें बिजली की खपत कम होती है.

Static RAM या SRAM के नुकसान ( Disadvantage of Static RAM or SRAM )

●   यह बहुत महँगा होता है.

●   इसकी मेमोरी क्षमता भी कम होती है.

●   इसको अधिक पावर की आवश्यकता होती है.

● यह आकार में बड़ा होता है.

2.  Dynamic RAM ( DRAM ) क्या है ( What is Dynamic RAM in Hindi )

बात करें अगर Dynamic RAM या DRAM की तो यह Static RAM का बिल्कुल उल्टा होता है,

Dynamic RAM के डाटा स्टोर करने वाले संधारित्र धीरे धीरे पावर (Power) खत्म करते रहते हैं.

और जब पूरी पावर खत्म हो जाती है तो उस स्थिति में पूरा डाटा भी डिलीट हो जाता है, Dynamic RAM में डाटा को याद रखने के लिए बार बार रिफ्रेश (Refresh) करने की आवश्यकता होती है.

Static RAM की तरह Dynamic RAM भी अस्थायी मेमोरी (Volatile Memory) ही होता है क्यूँकि इसमें भी पावर के बंद होने पर पूरा डाटा डिलीट हो जाता है.

 

Static RAM या SRAM की विशेषताएँ ( Characteristics of Static RAM or SRAM )

●   Dynamic RAM को DRAM के नाम से भी जाना जाता है.

●   यह कम टिकाऊ (Durable) होता है.

●   यह कम गति से कार्य करता है

●   इसका उपयोग मुख्य मेमोरी (Main Memory) के रूप में भी किया जाता है.

●   इसको बार बार रिफ्रेश (Refresh) करने की आवश्यकता होती है.

●   यह Static RAM से सस्ता होता है.

Dynamic RAM या DRAM के फायदे ( Advantage of Dynamic RAM or DRAM )

● यह काफी सस्ता होता है.

●   इसकी क्षमता अधिक होती है.

●   लंबे समय तक चलता है.

Dynamic RAM या DRAM के नुकसान ( Disadvantage of Dynamic RAM or DRAM )

●   यह बहुत धीमा होता है.

●   इसमें बिजली की खपत कम होती है.

●   यह आकार में बड़ा होता है.

RAM कैसे काम करता है ( How RAM Works in Hindi )

दोस्तों अब तक हमनें जाना कि RAM क्या है, और उसके प्रकार और सभी के अलग अलग कार्य भी जान लिए, लेकिन एक बड़ा मुद्दा ये भी आता है कि आखिर RAM कैसे काम करता है, तो चलिए ये भी जान लेते हैं.

RAM यानी की Random Access Memory यह कंप्यूटर या फिर किसी स्मार्ट फ़ोन का वह भाग है जिसके बिना उसका उपयोग नही हो सकता,

RAM कैसे काम करता है यह समझने में आपको कोई दिक्कत न ही इसीलिए मैं इसे आपको बहुत सी सरल भाषा मे समझाने की कोशिश करूँगा.

दोस्तों जैसा कि आप सब जानते ही हैं कि किसी भी कंप्यूटर या फिर किसी स्मार्ट फोन की इन्टरनल मेमोरी (Internal Memory) और RAM मेमोरी (RAM Memory)अलग अलग होती है,

या यूँ कहें तो इंटरनल मेमोरी अधिक और RAM काम होती है, वो इसीलिए क्यूँकि हमें RAM को सिर्फ अस्थायी रूप से इस्तेमाल करना होता है जबकि हमारे इंटरनल मेमोरी में हमारी सभी प्रकार की फाइल्स और एप्पलीकेशन सेव होते हैं.

ध्यान देने वाली बात ये है कि हमारे फ़ोन में जो भी एप्पलीकेशन इंस्टॉल होते हैं वो सब हमारे इंटरनल मेमोरी में होते हैं, लेकिन जब हम उस एप्पलीकेशन को ओपन करते हैं तो वह RAM में लोड होकर चालू होते हैं.

जब भी हम कोई एप्पलीकेशन ओपन करते हैं तो हमारे RAM, इंटरनल मेमोरी और CPU सबके बीच डाटा ट्रॉन्सर की प्रक्रिया शुरू हो जाती है,  RAM की स्पीड बहुत ही ज्यादा होती है इसलिए वह बहुत तेजी से प्रॉसेस करके एप्पलीकेशन को ओपन कर देता है.

और इस प्रकार से हम RAM की मदद से कई सारे एप्पलीकेशन को एक साथ बैकग्राउंड में चला सकते हैं, बाकी वह कितनी तेजी से लोड होता है या कितना ज्यादा प्रॉसेस कर सकता है ये सब RAM की क्वालिटी और कितना GB का RAM ही उसपर निर्भर करता है.

मोबाइल RAM और PC RAM में क्या अंतर है ( What is Different Between Mobile RAM and PC RAM )

दोस्तों कई लोगों को मोबाइल RAM और PC RAM के बारे में नही पता होता उनको लगता है कि दोनों एक जैसे होते हैं, लेकिन असल में ऐसा नही है,

मोबाइल RAM और PC RAM अलग अलग तरह के होते हैं.

मोबाइल में उपयोग किये जाने वाले RAM को LPDDR और PC उपयोग किये जाने वाले RAM को PCDDR कहते हैं.

1.  Mobile ROM :   LPDDR Full Form 

   Low Power Double Data Synchronous RAM

2.  PC RAM :   PCDDR Full Form

   Standard Double Data Synchronous RAM

Different Between Mobile RAM and PC RAM

मोबाइल RAM और PC RAM दोनों ही पावर और Performance में मामले में अलग अलग होते हैं,

मोबाइल RAM को इस प्रकार से डिज़ाइन किया जाता है जिससे कि वह ज्यादा पावर सेव कर सके, तो वहीं PC RAM को इस प्रकार से डिज़ाइन किया जाता है जिससे कि वह ज्यादा Performance दे सके.

 

अगर बात करें Architecture की तो मोबाइल ARM Architecture पर आधारित होते हैं और PC x86 Architecture पर.

हमें कितने RAM की आवश्यकता होती है ( How much RAM do we need for Mobile or PC )

हमने RAM से संबंधित सारी बातें जान ली, लेकिन आखिर में बात ये आती है कि आखिर हमें अपने मोबाइल या फिर कंप्यूटर के लिए कम से कम कितने RAM की आवश्यकता होती है,

बेशक यह बात सच है कि आपके सिस्टम में जितना ज्यादा RAM होगा आपके फ़ोन/कंप्यूटर उतने ही अच्छे और तेजी से काम करेगा.

लेकिन लोगों का अक्सर ये भी सवाल रहता है कि आखिर आपके फ़ोन या कंप्यूटर में कितने GB का RAM होना जरूरी है, लेकिन इस बात को समझना बहुत आसान है.

आपके लिए कितना RAM होना जरूरी है यह इस बात पर निर्भर करता है कि आप अपने फ़ोन या कंप्यूटर में कितना ज्यादा Task आपको करने रहते हैं.

मान लिजिए अगर आपको बस अपने फ़ोन में 2-3 एप्पलीकेशन ही चलाने होते हैं फिर तो आप 1GB RAM से भी आराम से गुजारा कर सकते हैं.

लेकिन अगर आप बहुत हैवी टास्क करते हैं बड़ी साइज के गेम्स खेलते हैं और भी कई सारे काम करने रहते हैं फिर तो ऐसे में आपको ज्यादा से ज्यादा RAM की जरूरत होगी.

इसीलिए जब आप कोई नया फ़ोन या कंप्यूटर लेने की सोचे तो आपको ये भी सोचना होगा कि आपको कितना ज्यादा काम आपके फ़ोन या कंप्यूटर में करना रहता है उसी जरूरत के हिसाब से आपको उतने ही RAM का सिस्टम खरीदना चाहिए.

और बात करें अगर सामान्य Usage की तो आज के समय में सभी एप्पलीकेशन का साइज काफी बढ़ गया है ऐसे में मोबाइल के लिए कम से कम 2 GB RAM होना तो जरूरी है, वहीं PC के लिए कम से कम 4GB तो होना ही चाहिए.

बाकी आपको अपनी जरूरत के हिसाब से तय करना होगा कि आपको कितने RAM की जरूरत पड़ेगी, आप जितना ज्यादा Heavy Usage करेंगे आपको उतने ही ज्यादा RAM की आवश्यकता होगी

क्या हम मोबाइल RAM को बढ़ा सकते हैं ( Can We Increase RAM in Mobile )

दोस्तों आपको इंटरनेट पर बहुत सारे आर्टिकल्स और Videos मिल जाएंगे जिसमें आपको ये बताया जाएगा कि आप अपने फ़ोन को रुट करके फ़ोन के RAM को Increase कर सकते हैं, लेकिन ऐसा नही होता.

अगर आपको भी यही लगता है कि आप अपने फ़ोन को रुट करके अपने फ़ोन के इंटरनल मेमोरी को RAM में बदल देंगे तो ये बस आपकी एक गलतफहमी है.

दरअसल मोबाइल रुट करके आपकी इंटरनल मेमोरी कभी भी RAM मेमोरी की तरह काम नही कर सकती,

चलिए आपको एक example के जरिये समझाने की कोशिश करता हूँ,

जैसा कि हम लोग इंसान है हमारे पास दो छोटे छोटे पैर होते हैं जिससे हम जमीन पर चलते हैं और आप चाहते हैं कि आप अपनी सामान्य गति से भी तेज चलने लगे और इसके लिए आपको किसी हाथी के पैर लगा दिए जाएं तो क्या आप सच मे तेज चलने लगेंगे ?

नही, बल्कि इसका आप पर बिल्कुल ही उल्टा असर होगा और तेज चलने के बजाय आप पहले से भी धीमे हो जाएंगे, यहां तक कि इसका बुरा असर आपके बाकी शरीर पर भी होगा.

ठीक इसी प्रकार से अगर आप अपने फ़ोन को रुट करके उसके इंटरनल मेमोरी को RAM मेमोरी में बदलने की कोशिश करेंगे तो आपके फोन की स्पीड ज्यादा होने जे बजाय काम हो जाएगी,

और आपका फ़ोन हैंग होने लगेगा, इसके साथ ही आपके फ़ोन में मौजूद सभी एप्लीकेशन और फाइल्स पर भी इसका बुरा असर होगा यहाँ तक कि ऐसा करने से आपके फ़ोन का बैटरी बैकअप भी कम हो जाएगा,

क्या हम लैपटॉप RAM को बढ़ा सकते हैं ( Can We Increase RAM in Laptop )

दोस्तों अगर आप अपने लैपटॉप में RAM को Increase या Upgrade करने की सोच रहें हैं तो जी हाँ आप ऐसा बिल्कुल कर सकते हैं.

अगर आपके लैपटॉप का Hardware Supported है तो आप बिल्कुल अपने लैपटॉप के RAM को Increase कर सकते हैं.

क्या लैपटॉप में पेन ड्राइव को RAM बना सकते हैं ( Can We Use Pen drive as RAM )

वैसे एक बात ये भी है कि हमारे कंप्यूटर और लैपटॉप में हमें अलग से Pan Drive लगाने का ऑप्शन भी मिलता है और हम अपने Pan Drive को अस्थायी रूप से RAM की तरह इस्तेमाल कर सकते हैं.

हालाँकि हम अगर हम अपने Pan Drive को छोटे मोटे कामों में RAM की तरह इस्तेमाल जरूर कर सकते हैं, लेकिन वह भी पूरी तरह से RAM की तरह काम नही करेगा,

ऐसा हम तब कर सकते हैं जब हमारा कम्प्यूटर RAM कम हो और Slow काम कर रहा हो तो ऐसे में हम अपने सामान्य Pan Drive को एक RAM की तरह इस्तेमाल कर सकते हैं जिससे कि हमारे कंप्यूटर की स्पीड पहले से थोड़ी बेहतर हो जाएगी.

बस आपको ध्यान रहे कि वह 100% RAM की तरह काम नही करेगा लेकिन अगर आपके कंप्यूटर की प्रोसेसिंग स्लो हो रही है तो आप अस्थायी रूप से इसका उपयोग कर सकते हैं.

RAM के बारे में कुछ अन्य जानकारी:

RAM के बारे में मैं आपको एक बात ये भी बता दूँ की RAM कोई स्टोरेज नही होता, इसका कारण यह है कि RAM कभी भी एक डेटा हो आपके फ़ोन या कंप्यूटर में स्टोर करके नही रखता.

बल्कि वह आपकी सुविधा के अनुसार ही काम करता है,

जैसे कि मान लीजिए अपने फ़ोन में किसी YouTube को ओपन किया और आप उसमें कोई वीडियो देख रहे हैं, और कुछ समय के इस्तेमाल के बाद अपने उस एप्पलीकेशन को बैकग्राउंड से हटा दिया.

तो ऐसे में जब दूसरी बार आप उसी YouTube एप्पलीकेशन को ओपन करेगें तो पहले जो आप उसमे वीडियो देख रहे थे अब वह उसी जगह पर न ओपन होकर आपका पूरा YouTube फिर से शुरू हो जाएगा.

इसका  सीधा सा मतलब यही है कि आपका जो RAM है वो किसी भी प्रोसेस को अपने अंदर स्टोर करके नही रखता, इसीलिए जब तक आप कोई एप्लिकेशन चलाते हैं तभी तक वह CPU के साथ फाइल्स को ट्रॉन्सर करता रहता है,

और जैसे ही आप उस एप्लिकेशन को बैकग्राउंड से हटा देते हैं तो वह उस एप्लिकेशन के लिए CPU के साथ फाइल्स को ट्रांसफर करना रोक देता है और  इसीलिए दूसरी बार जब आप उसी एप्लिकेशन को ओपन करते हैं तो वह फिर से स्टार्ट होता है.

निष्कर्ष ( Conclusion )

दोस्तों आज हमने इस पोस्ट की मदद से RAM से जुड़ी सभी जरूरी जनकारी दी है, जिसमें आपका मुख्य उद्देश्य यही था कि RAM Kya Hai ( What is RAM in Hindi ), और RAM कैसे काम करता है, और इसके बारे में हमने आपको बहुत विस्तार से समझाया,

इसके साथ ही साथ हमने आपको बताया कि Computer Memory Kya Hai और उसमें भी हमने हर एक छोटी से छोटी जरूरी बातें आपको समझाई.

तो अब मुझे पूरी उम्मीद है कि अगली बार आप जब भी कोई नया मोबाइल या कंप्यूटर लेना चाहेंगे आपको कोई भी संदेह नही होगा और बेझिझक आप अच्छे RAM के प्रोडक्ट को चुन सकेंगे.

तो मैं उम्मीद करता हूँ कि आपको हमारे द्वारा दी गई आज की ये जानकारी जरूर पसंद आई होगी,

तो अगर आपको ये जानकारी पसंद आई तो इसे अपने सभी दोस्तों को भी शेयर करो यार, जिससे उनको भी इसकी जानकारी मिल जाये.

तो RAM Kya Hai ( What is RAM in Hindi ) के इस पोस्ट में बस इतना ही अगर अभी भी आपको कुछ समझने में समस्या आ रही है या कोई अन्य सवाल है तो आप नीचे Comment कर सकतें हैं.

ये पोस्ट भी जरुर पढ़ें –

What is Quora in Hindi – Quora Kya Hai? Quora Ka Use Kaise Kare

Podcast Kya Hai Aur Podcasting Kaise Kare – Podcast Meaning in Hindi

Leave a Comment