चलती कार के बोनट पर दुल्हन ने कराया फोटोशूट,वीडियो वायरल होने पर पुलिस ने दुल्हन सेमत अन्य लोगों पर दर्ज किया केस

आज महाराष्ट्र के पुणे में एक 23 वर्षीय दुल्हन पर उसकी शादी के फोटोशूट के दौरान कोविड प्रोटोकॉल का उल्लंघन करने के आरोप में मामला दर्ज किया गया है। बताया जा रहा है कि महिला ने फोटोशूट के दौरान कोई भी मास्क नहीं पहन रखा था, इसके साथ ही उसने कई और नियमों का उल्लंघन भी किया था।जिसके कारण पुणे पुलिस प्रशासन द्वारा उनके उपर इस मामले पर करवाई की गई हैं। बता दूँ ये वायरल वीडियो पुणे के दिवे घाट का है।

चलती कार के बोनट पर बैठी दुल्हन

पुलिस द्वारा बताया गया है कि ये घटना पुणे शहर के दिवे घाट इलाके में मंगलवार सुबह की हैं। पुलिस ने मीडिया को बताया कि दुल्हन बिना मास्क लगाए कार के बोनट पर बैठ शादी के लिए फोटोशूट करवा रही थी । वहीं कार के आगे एक बाइक चल रही थी जिसमें कैमरामैन उसका वीडियो बना रहा था। इनके साथ कुछ अन्य लोग कार में यात्रा कर रहे थे। पुलिस ने बताया कि दुल्हन के अलावा कार के चालक, कैमरामैन और फोटोशूट में शामिल अन्य लोगों के खिलाफ भी मामले दर्ज किए गए हैं।

साबू आरोपियों पर 6 धाराओं के साथ मामला दर्ज

पुलिस ने जानकारी दी कि उन्होंने इस घटना में शामिल सभी आरोपियों पर आईपीसी की धारा 269, 188, 279, 107, 336, 34 के साथ-साथ आपदा प्रबंधन अधिनियम, महाराष्ट्र कोविड प्रबंधन अधिनियम और मोटर वाहन अधिनियम की अन्य संबंधित धाराओं के तहत मामला दर्ज किया है। वहीं पुलिस ने वीडियो शूटिंग के दौरान इस्तेमाल किया गाय कैमरा भी जब्त कर लिया हैं। पुलिस ने बताया कि मंगलवार दोपहर से इनका वीडियो सोशल मीडिया और व्हाट्सअप पर तेजी से फैल रहा हैं।

सभी आरोपी कई मामलों में दोषी

पुणे के लोनी कालभोर पुलिस स्टेशन के वरिष्ठ निरीक्षक राजेंद्र मोकाशी ने कहा कि इनके वीडियो के प्रारंभिक जांच में, इनके द्वारा कई मामलों का उल्लंघन पाया गया था। उन्होंने आगे बताया कि उनके कार्यों ने न केवल उनके स्वयं के जीवन को खतरे में डाला, बल्कि उसके अलावा मास्क नियम सहित कोविड सुरक्षा मानदंडों का भी उल्लंघन किया। यूँ तो आज महाराष्ट्र में कोरोना के मामलें में पहले से कई ज्यादा कमी आई हैं । आपको बता दूँ इस साल के शुरुआत में महाराष्ट्र देश का सबसे ज्‍यादा कोविड प्रभावित राज्यों में से एक था। इस साल के अप्रैल महीने में देश में दूसरी लहर आने पर यहां एक ही दिन में 67,000 से अधिक मामले सामने आये थे।

Leave a Comment