खाने को नहीं है रोटी,लेकिन इनकम टैक्स का पड़ा छापा तो निकली 100 करोड़ की मालकिन

कहते हैं कि किसी इंसान की किस्मत ऐसी चीज है जो कभी भी पलट सकती है। किस्मत में क्या लिखा होता है वह किसी को नहीं पता चलता लेकिन जब किस्मत पलटती है तो राजा को रंक और रंक को राजा बनने में देर नहीं लगती। लेकिन कभी-कभी इंसान की किस्मत में कुछ अच्छा आकर भी चला जाता है। दोस्तों आज हम आपको एक ऐसी कहानी बताने वाले हैं, जिसे जानकर आप के आश्चर्य की सीमा नहीं होगी। ऐसे ही जयपुर की रहने वाली एक औरत की किस्मत पल भर में बदल गई। संजू देवी राजस्थान के जयपुर की रहने वाली हैं जो मजदूरी और खेत में काम कर अपना और अपने परिवार का खर्च उठाती हैं।

हाल ही में आयकर विभाग ने आकर उनकी जिंदगी ही बदल डाली। उनकी कहानी सुनने में बड़ी अजीब लगती है लेकिन यह घटना सच्ची है। हो सकता है कई लोग इस कहानी पर विश्वास ना करें लेकिन यह कहानी नहीं बल्कि उस महिला के जीवन में घटी एक सत्य घटना है। ऐसा बताया जा रहा है कि संजू देवी अपने घर में जानवरों को पाल कर और गरीबी के कारण मजदूरी करके अपने दो बच्चों का और खुद का पेट पालती है। 12 साल पहले पति की मृत्यु के बाद वह पाई पाई की मोहताज हो गई थी लेकिन इनकम टैक्स की रेड के बाद वह करोड़ों की मालकिन बन गई।

जयपुर और दिल्ली हाईवे के बीच एक गांव में इनकम टैक्स की रेड पड़ने पर लगभग 64 बीघा जमीन की प्रॉपर्टी संजू देवी के नाम से मिली जिसकी कीमत लगभग 100 करोड रुपए बताई जा रही है। सालों से इस खाली पड़ी जमीन को आयकर विभाग ने बेनामी संपत्ति घोषित कर कब्जे में ले लिया। इस मामले की जांच के दौरान आयकर विभाग को पता चला कि संजू देवी के पति ने 2006 में उनसे अंगूठा लगवा कर यह जमीन खरीदी थी।

हालांकि संजू देवी को इस बारे में कुछ पता नहीं था और उन्होंने बताया कि उनके पति की मृत्यु के बाद एक व्यक्ति उनके घर पर ₹5000 देकर जाता था लेकिन उन्हें अपने इस जमीन के बारे में कोई अंदाजा भी नहीं था। वह इस बारे में कुछ नहीं जानती थी। बात करें इस महिला की तो इन्होंने कभी जिंदगी में नहीं सोचा था कि उनकी जिंदगी में इतना बड़ा बदलाव आएगा। करोड़ों की संपत्ति होने के बावजूद इन्हें काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा था लेकिन अब इनकी जिंदगी इस तरह बदली के लोग इन्हें किस्मत की चाबी पाने वालों में से गिन रहे हैं।

आयकर विभाग को यह जानकारी मिली थी कि दिल्ली जयपुर हाईवे पर कुछ बड़े उद्योगपति आदिवासियों के बेनाम जमीन को अपने नाम करवा रहे हैं जिसकी वजह से आयकर विभाग ने वहां की जांच पड़ताल शुरू की थी। इतनी बड़ी प्रॉपर्टी होने के बावजूद संजू देवी एक समय की रोटी के लिए इतने सालों तक तरसती रही। भले इतने सालों तक जो भी हुआ लेकिन अब उनकी पूरी जिंदगी बदल गई है।

Leave a Comment